मोदी सरकार की हिट लिस्ट में हैं दलित- जिग्नेश मेवानी

मोदी सरकार की हिट लिस्ट में हैं दलित- जिग्नेश मेवानी

नुमाइंदा मरकज
नई दिल्ली! दलित लीडर और गुजरात के वडगाम से आजाद मेम्बर असम्बली जिग्नेश मेवाणी ने कहा कि दलित तबका मोदी सरकार की हिटलिस्ट में है। एक न्यूज एजेसी को दिये इंटरव्यू में जिग्नेश मेवाणी ने कहा कि मोदी सरकार के सवा चार सालों में दलितों पर हिंसा के वाक्यात में इजाफा हुआ हैं। एक प्रोग्राम में जिग्नेश मेवाणी ने मौजूदा मरकजी सरकार की हकीकत बयान करते हुए कहा, यह सरकार फिरकापरस्त, जातपरस्त, फिस्ताई जेहन, पूंजीवादी और नकारा है। उन्होंने कहा, दलितों पर गुजिश्ता चार बरसों में जितने मजालिम हुए हैं, उतने पहले कभी देखने को नहीं मिले। मोदी राज में दलितों पर मजालिम बढ़े हैं। ऊना के दलितों, रोहित वेमुला, सहारनपुर के मजलूम दलितों को इंसाफ नहीं मिला। चंद्रशेखर आजाद रावण की मिसाल देते हुये कहा कि उसे जेल में डाल दिया गया है।
जिग्नेश मेवाणी ने कहा यह लोग संविधान से छेड़छाड़ कर रहे हैं। अंबेडकर के मुजस्सिमें (प्रतिमाएं) तोडे़ जा रहे हैं यह मनुस्मृति को जलाने के बजाय संविधान को जला रहे हैं। दलितो को दबाने की कोशिश हो रही है, दलित तो नाराज होंगे ही। रामविलास पासवान के दलित कार्ड खेलने के इल्जाम पर जिग्नेश कहते हैं लोग इल्जाम लगाते हैं कि मुल्क में जात कार्ड खास तौर से दलित कार्ड खेला जा रहा है, लेकिन मैं साफ कर दूं कि कोई दलित कार्ड नहीं खेल रहा है, जो लोग मजलूम (पीड़ित) हैं, वह आवाज उठा रहे हैं। मगर सरकार ने मुखालिफत की हर आवाज को दबाने की सोच रखी है।
जिग्नेश ने ‘शहरी नक्सली’ पर कहा ,यह दलित और आदिवासी आंदोलन को पटरी से हटाने की साजिश है। लोगो के हक के लिए काम कर रहे दानिशवरों को डराने और मोदी के लिए हमदर्दी हासिल करने की कोशिश है, साथ ही बड़ी तादाद में नौजवानों को सियासत से जोड़ने की अपील करते हुए जिग्नेश ने कहा कि वह खुद को नौजवान लीडर कहलवाना पसंद करते हैं। नौजवान बेहतर तरीके से सियासत से जुड़ें, तो देश और सियासत दोनों की सिम्त (दिशा) तब्दील हो सकती है।