लाशांे और खून मंे तबदीन हुआ म्यूजिक कंसर्ट

लाशांे और खून मंे तबदीन हुआ म्यूजिक कंसर्ट

लास वेगास! दो अक्टूबर को लास वेगास के एक होटल के नीचे जो कुछ हुआ उसने पूरे अमरीका को हिला कर रख दिया। तकरीबन 22 हजार लोग म्यूजिक फेस्टिवल में मशहूर सिंगर जेसन एल्डियन के कंसर्ट के लिए इकट्ठा हुए थे तभी होटल की 32वीं मंजिल के एक कमरे से 64 साल के एक सिरफिरे शख्स स्टीफन पैडोक ने अंधाधुंध फायरिंग करके साठ से ज्यादा लोगों को मौत की नींद सुला दिया और पंाच सौ से ज्यादा को जख्मी करके अस्पताल पहुचा दिया। झूटी पब्लिसिटी पाने के लिए बेताब रहने वाले सीरियाई दहशतगर्द गरोह आईएसआईएस ने फौरन ही इस गोली बारी की जिम्मेदारी लेते हुए दावा कर दिया कि फायरिंग करने वाला स्टीफन पैडोक चन्द महीने पहले ही इस्लाम कुबूल करके मुसलमान बना था। हालांकि इस दावे के फौरन बाद लास वेगास के पुलिस चीफ ने आईएसआईएस के दावे को गलत बताया। स्टीफन की गोली बारी में 58 लोग मौके पर ही मारे गए थे बाद में तीन की अस्पताल में मौत हो गई। अस्पताल में दाखिल कई लोगों की हालत संगीन बनी हुई है। फायरिंग के बाद जब तक पुलिस होटल में स्टीफन के कमरे तक पहुचती उसने गोली मारकर खुदकुशी कर ली।

म्यूजिक फस्टिवल मे तेज आवाज मंे म्यूजिक बज रहा था, दूसरी तरफ आतिशबाजी भी हो रही थी इसलिए गोलियां चलने की आवाज को भी लोगों ने आतिश बाजी ही समझा। वह तो जब नाचते-गाते लोगों के जिस्म पर गोली खाए लोगों के खून के छींटे पड़े और लोग गिरने लगे तब समझ में आया कि फायरिंग हो रही है। फायरिंग कहां से हो रही है यह तब भी कोई नहीं समझ पाया। पुलिस स्टीफन के कमरे में पहुंची तो वहां तकरीबन एक दर्जन खतरनाक रायफलें रखी मिलीं। मैडोले बे रिसार्ट एंड कैसीनो में हार्वेस्ट फेस्टिवल चल रहा था। 15 एकड़ में फैले इस रिजार्ट एंड कसीनो में पिछले चार साल से तीन दिन का कंट्री म्यूजिक फेस्टिवल होता है। यह हमला उसी फेस्टिवल के दौरान हुआ। चूंकि हमलावर स्टीफन पैडोक ने खुदकुशी कर ली इसलिए उसके मकसद और उसकी जेहनी कैफियत का अंदाजा तो नहीं हो सका लेकिन जिस तरह वह उस म्यूजिक कंसर्ट मंे जहां 22 हजार के करीब लोग मौजूद थे 10 आटो मैटिक राइफलें  लेकर हमला करने आया था उससे लगता है कि उसके सरपर भले ही जुनून सवार हो मगर वह आया पूरी तैयारी के साथ था।

स्टीफन ने 22 हजार लोगों केे प्रोग्राम में तकरीबन 15 मिनट तक अंधाधुंध गोलियां चलाईं जिसमें 58 लोग तो मौके पर ही मारे गए और सवा पांच सौ के करीब लोग जख्मी हो गए। हमले के अलावा भगदड़ मचने से भी कई लोग बुरी तरह जख्मी हुए और मर भी गए। अमरीका की तारीख में यह गोली बारी का सबसे बड़ा वाक्या है। इससे पहले पिछले साल जून में ओरलैडों  के एक नाइट क्लब में एक सिरफिरे ने फायरिंग कर दी थी जिसमें 49 लोगों की मौत हो गई थी। इस वारदात के बाद अमरीकी सदर ट्रम्प और आस्टे©ंलिया के प्राइम मिनिस्टर मैलकम टर्न बुल ने हमले में मारे गए लोगों पर अफसोस जाहिर किया। इस दौरान ट्रम्प ने ट्वीट पर अपना जो ताजियती पैगाम जारी किया उसमें उन्होने महार्दिकफ अफसोस का लफ्ज इस्तेमाल किया जिसपर बड़ी तादाद में लोगों ने ट्रम्प को गलत अंग्रेजी के लिए निशाना बनाते हुए कहा कि मुसीबत की इस घड़ी में उन्हें मदिल की गहराई सेफ अफसोस होना लिखना चाहिए था।

दिल हिला देने वाले इस वाक्ए के वक्त हाल में मौजूद कई लोगों का कहना है कि शुरू में तो वह लोग जश्न और खुशी के माहौल में समझ ही नहीं सके कि क्या हो रहा है। लेकिन जब शीशे के टूटने और लोगों को जख्मी होकर गिरते देखा तो उन्हें किसी अनहोनी का खदशा हुआ। उन लोगों का कहना था कि हाल का मंजर दर्दनाक था जिसे देखा नहीं जा सकता था। उस सनकी शख्स की गोलीबारी में जख्मी लोगों  में कइयों की मौत तो भगदड़ की वजह से कुचल कर हो गई। बड़ा डरावना मंजर था, चारों तरफ लाशेंऔर जख्मी लोग थे, चीख-पुकार और दहशत की वजह से कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करें। यह तो ऊपर वाले की मेहरबानी है कि जिंदा बच गए। प्रोग्राम में शरीक ब्रियान हेडरिक्स नाम के शख्स ने बताया कि हमले से तकरीबन 45 मिनट पहले तकरीबन पचास साल की एक औरत वहां आई और पागलों जैसी हरकते करनेे लगी। इस दौरान वह बार-बार कह रही थी कि मसब मरने वाले हैंफ। उसकी बातों पर किसी ने ध्यान नहीं दिया, शायद वह हमें वार्निंग दे रही थी। लेकिन उसको पागल समझ कर सिक्योरिटी वालों ने बाहर निकाल दिया था।

जिस अंदाज में स्टीफन पैडोक ने हमला किया उससे भले ही वह सनकी और जुनूनी कातिल लगता हो मगर उसकी तैयारी उसे एक शातिर और चालाक कातिल साबित करती है। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक स्टीफन ने अपने होटल सुइट के आस पास कैमरे लगाए थे। गलियारे में लगे दो कैमरों और खिड़की में लगे एक कैमरे से वह देख सकता था कि सिक्योरिटी अफसर आ रहे हैं या नहीं। पुलिस वाले अभी भी यह जानने कि कोशिश कर रहे हैं कि पैडोक (64) ने मैंडाले बे होटल से एक कंसर्ट पर अंधाधुंध गोलियां क्यों बरर्साइं। हालांकि, वह जानते हैं कि इसके लिए आला सतही स्कीम बनाई गई थी। क्लार्क काउंटी के शेरिफ जोसेफ लोमबाडरे ने मीडिया को बताया, इस शख्स ने पहले से मंसूबा बना रखा था। वह कहते हैं यह पूरी तरह मंसूबा बंद हमला था। उसके कमरे में जिस तरह के और जितनी बड़ी मिकदार में हथियार थे, वह इस हकायक की तस्दीक करते हैं।

अंडरशेरिफ केविन मैकहिल ने कहा कि जब पैडोक सिक्योरिटी गार्ड को गोली मारने पर परेशान था, उस वक्त हमले को रोका जा सकता था। अमरीकी तारीख में सबसे खतरनाक गोलीबारी का वाक्या माने जा रहे इस हमले के बाद अमरीका में बंदूक रखने से मुताल्लिक कानून को लेकर बहस छिड़ गई है।

पैडोक ने होटल के 32वीं मंजिल पर अपने कमरे में और अपने घर में 42 हथियार रखे थे, उसका घर हमले की जगह से 130 किलोमीटर दूर है। पुलिस वालों को नेवादा के मेस्क्वाइट में वाके पैडोक के घर से 19 हथियार मिले हैं और 23 हथियार लास वेगास के मैंडोले बे होटल से मिले हैं, जहां से उसने कंसर्ट में शामिल 22,000 लोगों पर अंधाधुंध गोलियां बरसाई। पुलिस ने स्टीफन की कार से कई किलो अमोनियम नाइट्रेट बरामद किया है, जिसका एक्सप्लोसिव बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। पुलिस का कहना है कि हमलावर का कोई क्रिमिनल रिकार्ड नहीं है। सरकारी रिकार्ड के मुताबिक उसके पास पायलट का लाइसेंस था। उसके नाम एक सिंगल इंजन एयरक्राफ्ट भी रजिस्टर था। स्टीफन ने रिटायरमेंट कम्युनिटी में 2 साल पहले एक घर भी खरीदा था। वह इस घर में कसीनो खातून वर्कर के साथ लिव-इन रिलेशन में रहता था। पैडाक इंटरनल आडीटर के तौर पर भी काम करता था। उसका कोई सोशल मीडिया रिकार्ड भी पुलिस को नहीं मिला है।

64 साल के स्टीफन नेवादा स्टेट के मेसक्विट का रहने वाला था। यह जगह लास वेगास से नार्थ-ईस्ट में करीब 80 किलोमीटर दूर है। यहीं, पैडाक ने 2015 में एक घर खरीदा। वह इस घर में अपनी खातून साथी मारिलोउ डैनली के साथ रहता था। मारिलोउ डैनली इंडोनेशियाई निजाद की आस्ट्रेलियाई शहरी  है। पुलिस के रिकार्ड्स बताते हैं कि वह जनवरी 2017 से उसी पते पर रह रही थी जहां स्टीफन पैडाक रहता था। हालांकि इस वाक्ए में वह शामिल है या नहीं इस बारे में पुलिस फिलहाल किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है।

इस हमले में किसी हिन्दुस्तानी के जख्मी होने की खबर नहीं है। भारत के राष्ट्रपति (सदर जम्हूरिया) रामनाथ कोविंद ने अपने ताजियती पैगाम में कहा कि लास वेगास में अपनी जान गंवाने वालों और जख्मियों के साथ पूरी हमदर्दी है। साबिक अमरीकी सदर बराक ओबामा ने कहा कि वह और मिशेल हादसे का शिकार हुए लोगों के लिए दुआ करते हैं। अमरीकी साबिक फारेन मिनिस्टर हिलेरी क्लिंटन, जर्मनी की चांसलर एंजिला मार्केल, ब्रिटेन की वजीर-ए-आजम थेरेसा मे अमरीकी सदर ट्रम्प की बेटी  इवाकां ट्रम्प, अमरीकी नायब सदर माइक पंेस और अमरीकी पाॅप सिंगर रिहाना ने इस हमले में मरने वाले और जख्मी लोगों के लिए दिली हमदर्दी का इजहार किया और सख्त अफसोस जाहिर किया। ब्रिटेन और अमरीका मंे पिछले पांच साल में ऐसे कई हमले हुए हैं। इस हमले से पहले मई में ब्रिटेन के मैनचेस्टर एरिना में अमरीकी पाप सिंगर के कंसर्ट में हमला हुआ जिसमें 22 लोग मारे गए, 250 जख्मी हुए, जून 2016 में फ्लोरिडा के नाइट क्लब में हमला हुआ 49 लोग मारे गए। दो दिसम्बर 2015 में कैलीफोर्निया के सोशल सर्विस सेटर पर हमला हुआ। पहली अक्टूबर 2015 को ओरेगान के कम्युनिटी कालेज में हमला हुआ 13 मई 2014 में युनिवर्सिटी आफ कैलीफोर्निया में हमला हुआ जिसमें 13 लोग मारे गए। 16 सितम्बर 2013मंे वाशिंगटन के नेवी यार्ड पर हमला हुआ 14 दिसम्बर  2012 मे कनेक्विक्ट के न्यूटाउन में हमला हुआ था जिसमें 26 लोग मारे गए थे। खबर लिखे जाने तक लास वेगास में हुए हमले का असल मकसद नहीं मालूम हो सका था पुलिस की तहकीकात जारी है।

फोटो हमले की तस्वीरें और हमलावर की भी