अखिलेश का बीजेपी पर हमला

अखिलेश का बीजेपी पर हमला

लखनऊ! योगी सरकार के जरिए पिछली सरकार की नाकामियों का जिक्र करते हुए एक व्हाइट पेपर (श्वेत पत्र) जारी किया गया था जिसे प्रदेश के साबिक वजीर-ए-आला अखिलेश यादव ने झूट का पुलिंदा बताया था। अखिलेश यादव का कहना था कि चूंकि प्रदेश की योगी सरकार अपने छः महीनों में कोई भी काम नहीं कर पाई है इसीलिए वह दूसरों के पर्दे के पीछे अपनी नाकामी को छुपा रही है। मोहनलाल गंज के खुजैली में हुए दंगल प्रोग्राम में शिरकत के बाद अखिलेश यादव ने अपनी तकरीर में बीजेपी की मोदी और योगी सरकारों को निशाने पर रखा और सख्त हमले किए।

अखिलेश यादव ने कहा कि अच्छे दिनों को लाने का वादा करने वालों ने खिलाड़ियों को पेंशन देना तो दूर समाजवादी पेंशन तक बंद कर दी। उन्होने कहा कि गोरखपुर के बाई एलक्शन मे अवाम योगी सरकार से अस्पताल में हुई बच्चों की मौतों का हिसाब लेगें। योगी सरकार पर हमला करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि उन्होंने एक नहीं दो झूट के पुलिंदेेे छपवाए, एक पिछली सरकारों की नाकामियों के नाम पर, एक अपनी सरकार की कामयाबियों के नाम पर। उन्होंने किसानों के फसली कर्ज माफ करने का वादा किया जबकि माफ किए एक लाख रूपए तक के कर्ज उसमें भी किसी को एक पैसा, किसी को दस रूपए तो किसी को सौ रूपए तक मुआवजे का चेक दिया गया। उन्होेने कहा कि मोदी सरकार ने हर साल दो करोड़ नौकरियां देने का वादा किया था तो हर साल दो लाख से ज्यादा लोगों की नौकरियां चली गई। इसी तरह योगी सरकार ने हर साल 70 लाख लोगों को नौकरियां देने का वादा किया है लेकिन अपनी सरकार के शुरूआती छः महीनों मंे उन्होने सिर्फ नौकरियां लेने का काम किया है। उनकी कमजोर पैरवी की वजह से शिक्षा मित्र से असिस्टेट टीचर बनने वाले फिर शिक्षा मित्र बन गए हैं और हुकूमत उनको राहत पहुचाने का कोई काम नहीं कर रही है। टीईटी का इम्तेहान और भर्ती का अमल इतना मुश्किल किए दे रहे हेैं कि अब जल्दी कोई प्राइमरी टीचर नहीं बन पाएगा।

वजीर-ए-आजम नरेन्द्र मोदी पर निशान साधते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि नोटबंदी से मुताल्लिक मरकजी सरकार के तमाम दावे झूटे और गलत साबित हुए हैं। मुल्क की डीजीपी गिर गई है। मंहगाई में इजाफा हो रहा है पेट्रोल-डीजल की कीमतें आसमान छू रही हैं। लेकिन अवाम की परेशानियों की कोई फिक्र मरकजी सरकार को नजर नहीं आती है। नोटबंदी की वजह से लोगों का कारोबार पहले ही चैपट हो गया था बची खुची कसर जीएसटी लाकर पूरी कर दी है। उन्होने कहा कि मुल्क में रेल की पटरियों की जांच तो हो नहीं रही  है मुंबई के रेलवे ब्रिज पर हादसे में कई दर्जन लोग हलाक हो गए और वजीर-ए-आजम बुलेट टे©ंन चलाने की बात कर रहे हैं। अखिलेश यादव ने कहा कि महंगाई के लिए कांगे्रस को कोसने वाले बीजेपी लीडरान अब डीजल, पेट्रोल  और खाना पकाने की गैस की बढती कीमतों पर खामोश क्यों हैं? आज लोगों को दो वक्त की रोटी का बंदोबस्त करना मुश्किल हो रहा है लेकिन वजीर-ए-आजम को मुल्क में महंगाई नजर नहीं आती है। उन्होने कहा कि उत्तरप्रदेश की योगी सरकार नज्म व नस्क (कानून व्यवस्था) के मोर्चे पर बुरी तरह नाकाम साबित हुई है। दशहरा और मोहर्रम के जुलूसों के निकलने के दौरान प्रदेश के कई जिलों में फिरकावाराना टकराव के आधा दर्जन वाक्यात पेश आए। कानपुर मंे तो खुलेआम बलवाई भगवा झण्डा कमर में लगाए थे  लेकिन सरकार ने हालात काबू में हैं का दावा करते हुए किसी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होने दी।

साबिक वजीर-ए-आला अखिलेश यादव ने मोहनलालगंज के खुजौली में हुए दंगल प्रोग्राम में शिरकत करके गांव वालों को खिताब करते हुए बीजेपी सरकार पर जमकर हमला बोला। अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी ने पहलवानों और खिलाड़ियों को नवाजने का काम किया था। कुश्ती समाजवादी पार्टी से जुड़ा हुआ खेल है। लेकिन अब हाल यह है कि खिलाड़ियों को मिलने वाली पेंशन के साथ ही बीजेपी सरकार ने समाजवादी पेंशन भी बंद कर दी है।  उन्होंने कहा कि अभी तक अच्छे दिन नहीं आए हैं। उत्तर प्रदेश सरकार पर हमला बोलते हुए अखिलेश ने कहा कि किसानों का कर्जा माफ नहीं किया गया। उत्तर प्रदेश में बीजेपी सरकार ने छः महीने में कोई भी बड़ा काम नहीं किया है। इस मौके पर अखिलेश ने गोरखपुर में बच्चों की मौत के मामले का जिक्र करते हुए कहा कि गोरखपुर के अवाम चुनाव में इसका जवाब लेगे। अखिलेश यादव ने लखनऊ से आगरा तक बने एक्सप्रेस वे का जिक्र करते हुए कहा कि उनकी सरकार ने किसानों को चार गुना मुआवजा देने का काम किया। उनकी सरकार बनने पर साइकिल से चलने वालों का एक्सीडेट होने पर 10 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाएगा। अखिलेश ने कहा कि बीजेपी सरकार नाइंसाफी के साथ धोका देने का काम कर रही है। नोट बंदी पर मरकजी सरकार की पोल खुल गई है। नोटबंदी पर सबसे ज्यादा नुकसान गरीबों का हुआ है।

फोटो अखिलेश यादव