मुसलमानों की लिंचिंग.आरएसएस का हाथ

मुसलमानों की लिंचिंग.आरएसएस का हाथ

”झारखण्ड मंे बीजेपी की सरकार है हरियाणा में है झारखण्ड को लिंचिंग का अखाडा बना दिया गया है। मुसलमानों और दलितों को सडकों पर कत्ल किया जा रहा है। यह इल्जाम लगाते हुए लीडर आफ अपोजीशन गुलाम नबी आजाद ने साफ तौर पर इल्जाम लगाया कि इन मामलात मंें परिवार ;संघ परिवारद्ध का हाथ है। मरकजी वजीर एचआरडी के इल्जाम का मुुंह तोड जवाब देते हुए उन्होेने कहा कि हम कांगे्रसियों ने देश के लिए खून दिया है जब हम आजादी की जंग लड़ रहे थे आप अंग्रेजों के साथ थे।“

 

”आप साठ साल बाद गाय को क्यांे ले आए। गाय के नाम पर देश को खाना जंगी की जानिब क्यों ले जा रहे है। शरद यादव के इस किस्म के तीखे सवालात पर बीजेपी की जानिब से कोई जवाब नहीं दे सका। सीताराम येचुरी ने सवाल किया कि अगर सिर्फ भारत माता की जय बोलना ही राष्ट्रवाद है तो भगत सिंह का नारा इंकलाब जिंदाबाद क्या हैै। जय हिन्द देश भक्ति का नारा क्यों नहीं है। क्योकि आप भारत माता की जय को नहीं हिन्दुत्ववादी राष्ट्रवाद मुल्क  पर लादना चाहते हैं।“

 

”सरकार की जानिब से कोई ठोस जवाब तो नहीं आया मुख्तार अब्बास नकवी ने लफ्फाजी से काम लिया तो बाकी मेम्बरान और वजीरों ने भी वही रवैया अख्तियार किया। किसी के पास इस बात का कोई जवाब नहीं था कि आखिर वजीर.ए.आजम मोदी के दो.तीन बयानात के बावजूद गौरक्षकों की गुण्डई बंद नहीं हो रही है। गुलाम नबी आजाद ने कहा कि वजीर.ए.आजम के बयानात के बावजूद गाय के नाम पर हिंसा का न रूकना तोे यही साबित करता है कि सब मिली भगत है।“

 

नई दिल्ली! मुसलमानों की लिंचिंग के जो वाक्यात मुल्क के मुख्तलिफ मकामात पर खुसूसन भारतीय जनता पार्टी की सरकारों वाले प्रदेशों में हो रहे हैं उन सभी वाक्यात में आरएसएस परिवार का हाथ है। इन वाक्यात से अपोजीशन का कोई भी सियासी फायदा नहीं है। इसका फायदा सिर्फ और सिर्फ बीजेपी को ही हो रहा है। झारखण्ड में बीजेपी सरकार है हरियाणा में भी है दोनों ही प्रदेश लिंचिंग का अखाडा बन चुके है। देश के लिए इंतेहाई शर्मनाक और खतरनाक सूरतेहाल पैदा कर दी गई है पूरी दुनिया में मुल्क की बदनामी हो रही है। अब तो यह लिंचिंग मुसलमानों के अलावा दलितों के साथ भी होने लगी है। गुजरात में एक जगह दलितों को इसलिए पीटा गया कि वह मुर्दा गाय को ले जा रहे थे। वहीं बनासकांठा में एक हामिला ;गर्भवतीद्ध दलित खातून को इसलिए बुरी तरह पीटा गया कि उसने मुर्दा गाय को उठाने से इंकार किया था। लीडर आफ अपोजीशन गुलाम नबी आजाद ने 19 जुलाई को राज्य सभा में इन अल्फाज के साथ लिंचिंग यानी पीट.पीटकर लोगोें को मार डालने की हिंसा पर बहस की शुरूआत की तो तमाम अपोजीशन पार्टियों के लीडरान ने भी उनकी आवाज मंे आवाज मिला कर एक जुबान में यही कहा कि लिंचिंग के वाक्यात मंे आरएसएस परिवार के लोगों का हाथ रहता है। गुलाम नबी आजाद ने कहा कि दो बार वजीर.ए.आजम नरेन्द्र मोदी मुबय्यना ;कथितद्ध गौरक्षकों के खिलाफ बयान दे चुके हैं कोई असर नहीं हुआ। क्योंकि सभी की मिली भगत लगती है। सरकार में बैठे लोग शायद सड़कों पर गौरक्षा के नाम पर ंिहंसा फैलाने वालों से यही कहते हैं कि हम अपना काम कर रहे हैं आप अपना काम करते रहिए।  उन्होने कहा कि एक रूलिंग पार्टी ने झारखण्ड में जो माहौल पैदा किया है इसंानी हुकूक की खिलाफवर्जी इस हद तक तो कश्मीर में उस वक्त भी नहीं हुई थी जब वहां दहशतगर्दी का बोलबाला था। उन्होने कहा कि आप लोगों ने मुल्क में ऐसा माहौल पैदा कर दिया है कि टेªन में सैकड़ों मुसाफिरों के सामने तो सड़कों पर हजारों लोगोें के सामने लिंचिंग होती है लेकिन भीड़ मंे शामिल लोग पीटने वाले को बचाने की हिम्मत नहीं कर पाते। यह बडी ही शर्मनाक सूरतेहाल है। सीनियर लीडर शरद यादव ने मोदी सरकार से बड़ी सफाई के साथ कहा कि यह गाय का जो धंधा आपने चला रखा है इस धंधे को बंद करिए अगर बंद नहीं किया तो मुल्क खाना जंगी ;गृहयुद्धद्ध में                 फंस जाएगा। शरद यादव ने कहा कि साठ सालों तक तो आपको गाय की याद नहीं आई लेकिन इस बार सरकार बनते ही आपको गाय की इतनी फिक्र हो गई कि मुसलमानोंए दलितांें और तमाम दीगर कमजोर तबके के लोगों को सडकों पर कत्ल किया जा रहा है। इसे बंद करिए। गुलाम नबी आजाद ने कहा कि लिंचिंग का जो माहौल देश में पैदा किया गया है उसी का नतीजा है कि श्रीनगर शहर में एक डिप्टी एसपी अय्यूब पंडित को पीट.पीटकर मार डाला गया वहां दोनों तरफ मुसलमान हैं फिर भी यह शर्मनाक वाक्या पेश आया क्योंकि देश का माहौल आप ने ऐसा बना दिया है।

‘मेरा अज्म है इतना बुलंद कि पराए शोलोें का डर नहींध् मुझे खौफ है आतिशे गुल से कहीं यह चमन को जला न दे।’

यह शेअर पढते हुए गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मुसलमानों और दलितांे के साथ आज जो कुछ हो रहा है या किया जा रहा है उसमंे पाकिस्तान चीन या दूसरे किसी मुल्क का दखल नहीं है। यह हमारे मुल्क का ही मसला है। जिसे सबको मिलजुलकर हल करना है और मसला हल करने की ज्यादा बड़ी जिम्मेदारी सत्ता में बैठे लोगों की होती है। उस वक्त और भी ज्यादा जब लिंचिंग जैसे मामलात में आपके परिवार के लोग ही शामिल हैं। इसी के साथ उन्होने उन दलितों और मुसलमानों की फेहरिस्त भी पढकर सुना दी जो गुजिश्ता तीन सालों में नफरत की हिंसा का शिकार बनाए गए है। उन्होेने कहा कि कितने अफसोस की बात है कि जिस मुल्क में राम पैदा हुए होंएगौतम बुद्ध पैदा हुए होंए लार्ड महावीर पैदा हुए होए गुरूनानक और गांधी पैदा हुए हो और सभी ने सच्चाई और अदम तशद्दुद ;सत्य और अहिंसाद्ध की तालीम दी इंसानियत और इस्लाम के मानने वाले भी सोशलिज्म की ही बात करते हैं उस मुल्क में आजादी के सत्तर साल बाद भी अगर धर्म और जात की बुनियाद पर हिसा पर बहस में उलझे रहे यह तो बहुत ही शर्मनाक सूरतेहाल हैं। उन्होेने कहा कि आज हमारे मुल्क में इंसानों को मारने के लिए वही तरीके अख्तियार किए जा रहे हैं जो मीडिवल दौर में थे लोगों को पीट.पीट कर जिंदा जला दिया जाता है गाय के नाम पर रस्सी से गर्दन बांध कर दरख्त से लटका दिया जाता है।

उन्होने कहा कि केरल के कोल्लम जिले के एक स्कूल में सौ बच्चों ने मिड डे मील खाने से सिर्फ इसलिए इंकार कर दिया कि खाने के बर्तन एक दलित लडके ने साफ किए थे। तिरूअनन्तपुरम में 23 साल की एक दलित लडकी को पहले रेप किया गया फिर कत्ल कर दिया गया। आप बताइए कि क्या कुछ लोगोें को अपने से कमजोरों को कत्ल करने का कोई लाइसेस मिल गया है।

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि झारखण्ड में बीजेपी सरकार है। मजलूम अंसारी और उनके साथ सिर्फ बारह साल का बच्चा इनायत उल्लाह खान भेड बकरियांए गाय बैल भैस वगैरह लेकर मवेशी मेले में जा रहे थे उन्होेने गाय या किसी दूसरे जानवर को काटा नही था गौरक्षकों ने उन दोनों को रास्ते में रोक कर उनके मवेशी लूट लिए दोनों को पहले लाठियों से बुरी तरह पीटा फिर रस्सी से गर्दन बांधकर दरख्त से लटका दिया। आप आखिर करना क्या चाहते हैघ् मुसलमानों और दलितों को न जिंदा रहने देगे और न उनके व्यापार को बाकी रखेगेघ् यही गांधी और राम का भारत है।

उनकी तकरीर के अगले दिन मरकजी एचआरडी वजीर प्रकाश जावडेकर ने इस मसले पर बोलते हुए कह दिया कि ऐवान मे कल जो कुछ कहा गया वह दुनिया में भारत को बदनाम करने की कोशिश थी। इसपर गुलाम नबी आजाद ने सख्त लहजे में जवाब दिया और कहा कि अगर मुल्क का वजीर.ए.तालीम इस किस्म का जेहन रखता है तो इसीसे अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह लोग क्या कर रहे होगे। उन्होने कहा कि  आप हमपर देश को बदनाम करने का इल्जाम लगा रहे हैं हमने तो देश बनाया है आज जितनी भी पार्टियां अपोजीशन में बैठी हैं यही हैं जिन्होेने आजादी की लडाई लडी आपतो अंग्रेजों के साथ थे। आपके परिवार के किसी शख्स ने तो मुल्क के लिए नाखून तक नहीं कटाया। पंडित जवाहर लाल नेहरू को अक्सर आप उल्टा सीधा कहते रहते हैं जिन्होेने जेल की सख्तियां बरदाश्त की उनकी बीवी बीमार थी वह जेल में थे। सही तरीके से इलाज तक नहीं करा सके। आज मैं भी कह रहा हूं कि देश में किसी भी पार्टी की सरकारे रही हों जहां कहीं भी फिरकावाराना फसाद हुए हर फसाद मे आप के परिवार का ही कोई न कोई शख्स शामिल रहा हैै। आप देश बनाने के मामले में हमपर उगली उठा रहे हैं यह कहकर तमाम अपोजीशन मेम्बरान के साथ वह वाकआउट कर गए।

इस मसले पर बोलते हुए जनता दल यूनाइटेड लीडर शरद यादव ने कहा कि आज देश में कत्ल और खुदकुशी का रिवाज चल पडा है। वह भी कानून की आड में सत्तर सालों में हम कहां पंहुचे है। खाने  के नाम पर जुनेदए अखलाकए पहलू खान कत्ल कर दिए जाते है। नजीब जिदंा गायब है कोई तलाश नहीं कर पा रहा है। उन्होने कहा जब मजहब सियासत पर और सियासत मजहब पर हावी हो जाता है तो आप पडोस में पाकिस्तानए अफगानिस्तानए सीरियाए ईरान देख लीजिए। आप देश को कहां ले जाना चाहते है। लिंचिंग से ज्यादा खतरनाक हरकत कोई नहीं है। यही तालिबानी तरीका है। झारखण्ड के चैदह जिलों में राजस्थान के ग्यारह जिलों में राजस्थान और मध्य प्रदेश के चार.चार जिलों में लिंचिंग हुई। सभी जगह आपकी ही सरकारें है। आखिर बिहार में ऐसा क्यों नहीं होता वह भी तो इसी मुल्क का हिस्सा है। धर्म के नाम पर एक बार मुल्क तकसीम हो चुका है। नतीजा यह कि हम दो तीन हिस्सों में तकसीम हो गए। जिसकी वजह से आज पार्लियामेंट भी जेल से ज्यादा सख्त जगह हो गई है। धर्म के नाम पर हमलों का ही नतीजा है कि आज लोग ;मुसलमानद्ध बसों और टेªनों मे सफर करने से डरते हैं। अब आप गाय लेकर आ गए जो काश्तकारों की सबसे बडीपूजी है आज मवेशी की कीमत गिर कर जमीन पर पहुच गई है। अब आप जानवरों पर बेरहमी ;पशू क्रूर्ताद्ध का कानून लाकर आपने ‘पशुधन’ भी काश्तकारों से छीन लिया। दलितों के साथ भी यही हो रहा है।

समाजवादी पार्टी के नरेश अग्रवालए तृणमूल कांग्रेस के डेरेन ओ ब्रायन समेत सभी अपोजीशन पार्टियों के लीडरान ने लिंिचंग की सख्त मजम्मत करते हुए इसके लिए सरकार और बीजेपी को ही जिम्मेदार करार दिया। मायावती की गैर मौजूदगी में उनकी पार्टी के जनरल सेक्रेटरी सतीश चन्द्र मिश्रा ने अपनी बात रखी। माक्र्सवादी पार्टी के सीताराम येचुरी ने सवाल उठाया कि सिर्फ और सिर्फ मुसलमानों की ही लिंचिंग क्यों हो रही हैघ् हम इंसानियत की गिरावट की आखिरी मंजिल तक क्यांे पहुच गए। उन्होने कहा कि स्पेन में यह तरीका अख्तियार किया गया था कि मुसलमानों और यहूदियों में फर्क करने के लिए सुअर  का   सूप पिलाया जाता था जो पीने से मना करता था वह मुसलमान होता था और उसे कत्ल कर दिया जाता था। आज गाय के गोश्त को स्पेनिश सुअर सूप का दर्जा दे दिया गया है। आखिर इस मुल्क में प्राइवेट आर्मीज का क्या काम हैघ् यह गौरक्षकए हिन्दू रक्षक आर्मीज किसने खडी की है। अगर इन्हें न रोका गया तो देश की एकता खतरे में पड जाएगी।

 

बाक्स. लिंिचग के मुताल्लिक गुलाम नबी आजाद की राज्य सभा मंे की गई तकरीर अगले शुमारे में शाया की जाएगी।