बुरहान वानी की बरसी के बहाने कश्मीरी नौजवानों को मरवाने की साजिश – पाकिस्तान से सलाहउद्दीन ने हिन्दुस्तान को दी गीदड़ भभकी

बुरहान वानी की बरसी के बहाने कश्मीरी नौजवानों को मरवाने की साजिश – पाकिस्तान से सलाहउद्दीन ने हिन्दुस्तान को दी गीदड़ भभकी

नई दिल्ली! हिन्दुस्तान से भागकर पाकिस्तान मंे वहां की खुफिया एजेंसी आईएसआई की मदद से हिजबुल मुजाहिदीन नाम की दहशतगर्द तंजीम (संगठन) बनाने वाले यूसुफ शाह उर्फ सैयद सलाहउद्दीन को अच्छी तरह मालूम है कि अमरीका के जरिए उसे ‘ग्लोबर टेररिस्ट’ यानि आलमी सतह का दहशतगर्द करार दिए जाने के बाद किसी भी दिन उसका हश्र ओसामा बिन लादेन जैसा हो सकता है।फिर भी वह अपने बड़बोलेपन से बाज नहीं आ रहा है। उसने हिन्दुस्तान के खिलाफ शेखी बघारते हुए यहां तक कह दिया कि वह जब चाहे हिन्दुस्तान के किसी भी कोने में हमला करा सकता है उसने अमरीका के नए सदर डोनाल्ड ट्रम्प को कुछ न समझने का एलान करते हुए कहा कि ट्रम्प एडमिनिस्टेªशन ने हिन्दुस्तान को खुश करने के लिए उसे ‘ग्लोबल टेररिस्ट’ कहा है लेकिन इससे वह डरने वाला नहीं है। सलाहउद्दीन एक तरफ फर्जी हेकडी भी दिखा रहा है साथ-साथ सफाई भी दे रहा है कि उसने जितने जेहादी तैयार किए हैं उनमें एक भी दहशतगर्द नहीं है। वह चैलेंज करता है कि दुनिया की कोई भी एंजेसी उसके एक भी लड़ाके को दहशतगर्द साबित करके बताए।

आम कश्मीरियों के खून का हमेशा प्यासा रहने वाले सलाहउद्दीन ने गुजिश्ता दिनों एक वीडियो जारी करके सात से तेरह जुलाई तक कश्मीर मंे एहतेजाजी प्रोग्राम का एलान किया है। उसका कहना है कि कश्मीर वादी में बुरहान मुजफ्फर वानी की शहादत की बरसी बड़े पैमाने पर मनाई जाए। कश्मीर की मसाजिद के इमामों से उसने कहा है कि सात जुलाई को जुमे की नमाज के बाद वह लोग आम नमाजियों को शहादत के सिलसिले में तफसीली जानकारी दे। आठ जुलाई को त्राल मंे बुरहान मुजफ्फर वानी के लिए खुसूसी प्रोग्राम करेें। बारह जुलाई को दुश्मन की तबाही के लिए खुसूसी नमाजों का एहतमाम करें। उसने कहा है कि तेरह जुुलाई को पूरी कश्मीर वादी में ‘प्रोटेस मार्च’ यानि एहतेजाजी मुजाहिरे किए जाएंगे। सलाहउद्दीन जब यह बेंहूदा एलान कर रहा था तो उसके साथ हाफिज सईद का एक नजदीकी रिश्तेदार अब्दुर्रहमान मक्की भी खड़ा था। इससे साफ जाहिर है कि सलाहउद्दीन और हाफिज सईद समेत सभी पाकिस्तानी दहशतगर्द सरगना एक साथ मिलकर हिन्दुस्तान के खिलाफ दहशतगर्दी फैलाने का काम कर रहे है। उसके इस बयान से पाकिस्तान की भी पोल पटटी खुलती है क्योकि पाकिस्तान यही कहता रहा है कि उसकी सरजमीन से हिन्दुस्तान मंे दहशत फैलाने की कोई सरगर्मी नहीं होती।

सलाहउद्दीन ने 7 से 13 जुलाई तक कश्मीर वादी में बुरहान वानी की बरसी मनाने का जो एलान किया है उसका नतीजा यह होगा कि वह कश्मीर में हंगामा करा कर कुछ नौजवानों को मौत के मुह में धकेल देगा। उसे अच्छी तरह पता है कि उसके और उसके साथी दहशतगर्दों के बहकावे में आकर अक्सर कश्मीरी नौजवान सडकों पर उतरते हैं पथराव करते हैं सिक्योरिटी फोर्सेज के साथ उनका टकराव होता है और मारे जाते है। सलाहउद्दीन ने पाकिस्तान के टीवी चैनल जियो टीवी से बात करते हुए हेकडी दिखाई और कहा कि कश्मीर की आजादी की जंग वह जारी रखेगा। उसके लडाके कश्मीर मंे पूरी मेहनत से काम कर रहे हैं उन्हें दहशतगर्द कहना उनकी तौहीन है।

सलाहउद्दीन ने कहा कि अपने लडाकों के लिए वह खुले इंटरनेशनल मार्केट से असलहा खरीदता है। अगर कोई उसे पैसा दे तो वह उसे जरूरत के मुताबिक असलहा दिला सकता है। वह कहता है कि अमरीकी सदर डोनाल्ड ट्रम्प एक पागल इंसान है जिसे पच्छिमी दुनिया का कोई मुल्क संजीदगी से नहीं लेता। उसके अपने मुल्क में ही लोग उसे एक बेवकूफ और पागल इंसान समझते हैं।

यूसुफ शाह श्रीनगर में पम्पोर का रहने वाला है वह असम्बली का एलक्शन भी लड़ चुका है। एलक्शन हारने के बाद वह यह कहकर पाकिस्तान भाग गया था कि हिन्दुस्तानी फौज ने असम्बली एलक्शन में बडे पैमाने पर धंाधली कराकर उसकी पार्टी को हरवा दिया था। अब वह तभी कश्मीर वापस आएगा जब कश्मीर को हिन्दुस्तान से आजाद करा लेगा। उसकी बीवी बच्चे पम्पोर में ही रहते हैं जबकि वह पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की राजधानी मुजफ्फराबाद और रावलपिंडी दोनों जगह रहता है। उसके साथ हिन्दुस्तान का रवैया यह है कि फरवरी 2016 में पम्पोर में दहशतगर्दाें के एक हमले मे उसका सबसे छोटा बेटा मोहम्मद मुनीर फंस गया था वह मौत के मुह मंे चला जाता लेकिन हिन्दुस्तानी फौज के जवानों ने अपनी जान की बाजी लगाकर उसे बचाया था। पाकिस्तानी खुफिया एजेसी आईएसआई और वहां की फौज सलाहउद्दीन को हर तरह की मदद देकर उसे हिन्दुस्तान के खिलाफ इस्तेमाल कर रही है। फौज और आईएसआई के पैसे से ही वह पाकिस्तान के चैदह दहशतगर्द गरोहों की मुत्तहिदा जेहाद कौंसिल बनाकर उसका सदर बना बैठा है।