मोदी के दौरे से इस्राईल को ही फायदा

मोदी के दौरे से  इस्राईल को ही फायदा

नई दिल्ली! वजीर-ए-आजम नरेन्द्र मोदी के इस्राईल दौरे का बडा फायदा इस्राईल को ही मिला है। क्योंकि इस्राईल ने पिछले 70 सालों में पहली बार किसी हिन्दुस्तानी वजीर-ए-आजम का दौरा कराने में कामयाबी हासिल कर ली। इसी के साथ इस्राईल ने हिन्दुस्तान को बडे पैमाने पर असलहा बेचने का सौदा भी कर लिया। इस्राईली वजीर-ए-आजम बेजामिन नेतन्याहू ने भले ही नरेन्द्र मोदी और हिन्दुस्तान को अपना दोस्त करार दिया हो इस दौरे  से हिन्दुस्तान को कोई खास फायदा इसलिए नजर नहीं आता क्योंकि गुजिश्ता मार्च में ही अपने चीन दौरे के वक्त नेतनयाहू ने चीन के सदर शी जिन पिंग को अपना बडा भाई और  ‘आदर्श’ करार देते हुए कहा था कि चीन ने दुनिया भर की मआशी (आर्थिक) हालत पर बरतरी हासिल कर रखी है। उन्होेने कहा हम भी आपके पीछे चलकर इकनामिक मामलात में और भी ज्यादा मजबूत बनना चाहते है। नेतनयाहू ने चंद महीने पहले ही उसी चीन में यह बातें की थीं जो चीन मोदी के इस्राईल दौरे के दौरान ही भारत को फौजी कार्रवाई की धमकी दे रहा था।

नरेन्द्र मोदी के इस्राईल दौरे के वक्त भी वही घिसी पिटी बात कही गई कि इस्राईल ने दहशतगर्दी के खिलाफ मुकम्मल तआवुन (सहयोग) करने का यकीन दिलाया है। नरेन्द्र मोदी ने आज तक जितने मुल्कों का दौरा किया है हर बार यही कहा गया है कि उस मुल्क ने हिन्दुस्तान के साथ मिलकर दहशतगर्दी खत्म करने का वादा किया है। अगर पचास से ज्यादा मुल्कों ने हिन्दुस्तान के साथ मिलकर दहशतगर्दी खुसूसन पाकिस्तानी दहशतगर्दी खत्म करने का यकीन दिला रखा है तो यह सब मिलकर अब तक हिन्दुस्तान में पाकिस्तान से आने वाली दहशतगर्दी को रोक क्यों नहीं  सके। मोदी के वजीर-ए-आजम बनने के बाद दो सरकारी जुमले अब मजाक बनने लगे है। एक दहशतगर्दों और नक्सलियों के किसी भी हमले के बाद वाक्ए की सख्त मजम्मत (कडी निन्दा) करने का दूसरा जुमला  फलां मुल्क से पाकिस्तानी दहशतगर्दी पर मोदी का सख्त हमला।

जहां तक इस्राईल से असलहा खरीदने का सवाल है इस्राईल से असलहों की खरीद तो पहले से ही हो रही है। खुफिया एजेसियों की एक्सपर्टाइज (महारत) भी हिन्द  ुस्तान इस्राईल से दसियों साल से हासिल कर रहा हैं मोदी के दौरे से इस्राईल अपना ज्यादा से ज्यादा असलहा तो भारत को बेच लेगा लेकिन क्या वह चीन समेत दूसरे पडोसी मुल्कों से खराब हो चुके ताल्लुकात में भी कोई मदद करेगा इसमें शक है।

इस दौरे के दौरान नेतनयाहू मजाक मे ही सही मोदी की शादी शुदा जिंदगी पर भी चोट करने से नहीं चूके। अपने घर में डिनर के वक्त नेतनयाहू ने कहा कि तीस साल पहले वह अपनी महबूबा को लेकर पहली बार जिस हिन्दुस्तानी होटल में गए थे उस होटल के खाने का नतीजा यह निकला कि उनकी वह महबूबा उनकी बीवी बन गई और उनके दो खूबसूरत बच्चे है। मोदी को मुखातिब करते हुए उन्होेने कहा कि आज आपके लिए भी मैने उसी रेस्टोरेट से खाना मंगवाया है।

मोदी के इस्राईल दौरे मंे भी नरेन्द्र मोदी ने वहां जो तकरीर की वह भी कुछ इस तरह की थी जैैसे वह हिन्दुस्तान के किसी शहर में किसी चुनावी मीटिंग में तकरीर कर रहे हो। अपनी तीन साल की सरकार के दौरान उन्होने अपने मुल्क के लिए क्या-क्या किया है यही बयान करते रहे। उनकी तकरीर से ऐसा लग रहा था कि शायद इस्राईल के अगले पार्लियामेंट्री एलक्शन में बीजेपी के उम्मीदवार खडे करेगे। वह सिर्फ यह कहना भूल गए कि तीन साल में उनकी सरकार ने मुल्क में कहीं भी कमजोर लोगोें को पीट-पीटकर मार डालने वाले गुण्डों के खिलाफ कोई सख्त कार्रवाई नहीं की बाकी बार-बार यही कहा कि हमने तीन साल में क्या-क्या कर डाला। उन्होने  अपनी तकरीर में पहले की कांग्रेसी हुकूमतों के नाम तो नहीं लिए लेकिन तकरीर कुछ इसी किस्म की की जैसे तीन साल की उनकी सरकार के पहले मुल्क की किसी सरकार ने तरक्की का कोई काम ही न किया हो।

मोदी हिन्दुस्तान के पहले वजीर-ए-आजम है जिन्होेने इस्राईल का दौरा किया है इससे पहले वजीरों की सतह के लोगों ने इस्राईल का दौरा किया था लेकिन कोई भी वजीर जब भी इस्राईल आया उसने तवाजुन (संतुलन) बरकरार रखते हुए फिलिस्तीन का भी दौरा किया। इस बार वजीर-ए-आजम की हैसियत से नरेन्द्र मोदी का सिर्फ इस्राईल का दौरा और वह भी उस सूरत में जब इस्राईल गाजा पर लगातार बमबारी कर रहा है जिसमंे बडी तादाद में छोटे बच्चे तक मारे गए हैं । इस्राईल की जबरदस्त डिप्लोमेटिक कामयाबी है। यही वजह है कि इस्राईल मे मोदी का सारे प्रोटोकाल  तोडते हुए गर्मजोशी से खैरमकदम हुआ।