हरियाणा में ख्वातीन पर मजालिम का एक और दर्दनाक वाक्या – माँ का गैंगरेप, रिक्शे से बाहर फेंकी गई नौ महीने की बच्ची की मौत

हरियाणा में ख्वातीन पर मजालिम  का एक और दर्दनाक वाक्या – माँ का गैंगरेप, रिक्शे से बाहर फेंकी गई नौ महीने की बच्ची की मौत

नई दिल्ली! हरियाणा में रेप का एक और दर्दनाक वाक्या पेश आया है। इस  वाक्ए में तीन मुल्जिमान ने एक नौजवान खातून से गैंगरेप करने के अलावा इस जुर्म के दौरान उसकी सिर्फ नौ महीने की बेटी को चलते आटो रिक्शे से बाहर फेंक दिया, जो मौके पर ही इंतकाल कर गई। यह भयानक जुर्म देश में ख्वातीन के खिलाफ जिन्सी जरायम के बहुत परेशानकुन वाक्यात के सिलसिले की  नई कड़ी है। इस दौरान एक नौजवान खातून को, जिसकी उम्र उन्नीस-बीस साल के करीब बताई गई है, एक चलते रिक्शे में तीन लोगों ने गैंगरेप किया।

इस जुर्म के दौरान मुल्जिमान ने इस खातून की एक बच्ची को, जिसकी उम्र सिर्फ नौ महीने थी, चलते रिक्शे से बाहर फेंक दिया। पुलिस के मुताबिक यह वाक्या गुड़गांव इलाके में उनतीस मई की रात पेश आया। पुलिस ने बताया कि खातून की शिकायत पर मुल्जिमान के खिलाफ रेप और बच्ची के कत्ल का मामला दर्ज कर लिया गया है।

गुड़गांव के पुलिस कमिशपर संदीप खैरवाड़ ने बताया, हम जांच कर रहे हैं, कई मुश्तबा लोगोे से पूछगछ जारी है। मुमकिना मुल्जिमान को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। पुलिस कमिशनर ने बताया कि चलते रिक्शे से बाहर सड़क पर फेंकी जाने वाली नौ महीने की बच्ची की मौके पर ही मौत हो गई थी, जिसकी वजह उसे सिर पर लगने वाली शदीद चोटें बनीं।

पुलिस को दर्ज कराई गई रिपोर्ट के मुताबिक यह खातून उनतीस मई को करीब आधी रात के वक्त अपनी  बेटी के साथ गुड़गांव में अपने वाल्दैन के घर जाना चाहती थी। फिर जब वह एक रिक्शे में सवार हुई तो उसमें ड्राईवर के अलावा पहले से ही दो दीगर मर्द भी सवार थे।

एफआईआर के मुताबिक यह खातून जैसे ही रिक्शे में सवार हुई तो इसमें मौजूद लोंगों ने उस पर हमला कर दिया। इस दौरान न सिर्फ उसे रेप का निशाना बनाया गया बल्कि चलते रिक्शे से उसकी ु बेटी को भी छीन कर बाहर फेंक दिया गया, जिसकी लाश बाद में सड़क से मिली।

एएफपी ने लिखा है कि भारत में ,ख्वातीन के साथ जिन्सी ज्यादतियों और गैंगरेप के वाक्यात इंतेहाई तशवीशनाक  हद तक बढ चुके हैं। सिर्फ मुल्क की राजधानी नई दिल्ली ही में 2015 में 2200 ख्वातीन का रेप किया गया। इसका मतलब यह है कि नई दिल्ली में  औसतन हर रोज छः ख्वातीन का रेप कर दिया जाता है।

इसके अलावा पूरे देश में हर साल औसतन रेप के 40 हजार वाक्यात होते हैं और खास कर देही इलाकोे में तो यह शरह इसलिए भी ज्यादा है कि वहाँ मुतास्सिरा खातून के खानदान की बेइज्जती के डर से ऐसे हर जुर्म की रिपोर्ट पुलिस को नहीं दी जाती और अक्सर मुतास्सिरा ख्वातीन अपनी शिकायत लेकर पुलिस के पास जाने से घबराती हैं। खबर लिखे जाने तक रेप करने वाले तीन मुल्जिमान को गिरफ्तार कर लिया गया है।