वोट समझाने से नहीं, बहकाने से आता है-अखिलेश यादव

वोट समझाने से नहीं, बहकाने से आता है-अखिलेश यादव

लखनऊ! पांच रियासती असम्बली एलक्शन के नतीजे आने के बाद अखिलेश यादव ने सहाफियों से बात की। यूपी में 60 सीटों का आंकड़ा भी न छू पाई समाजवादी पार्टी के कौमी सदर मौजूदा वजीर-ए-आला अखिलेश यादव ने कहा कि वह उत्तर प्रदेेश के अवाम की इज्जत करते हैं। उन्होने कहा कि हो सकता है कि लोगों को एक्सप्रेस वे पसंद न आया हो और वह बुलेट टेªन चाह रहे हों। शायद इसीलिए उसने वोट दिया है। उत्तर प्रदेश में पार्टी की हार के तजजिए के बाद ही उन्होनंे हार की जिम्मेदारी लेने की बात कही है। अखिलेश यादव ने एक बड़ा बयान देते हुए कहा कि एक बात तो साफ है कि वोट समझानेे से नहीं बहकाने से आता है। अखिलेश ने गठजोड़ को अपनी कमजोरी न मानते हुए इसे दो लीडरों का मिलन बताया हैै। मायावती के ईवीएम पर सवाल उठाए जाने के बाद उन्होने कहा कि अगर ऐसा है तो सरकार को इसकी जांच करनी चाहिए। मैं भी अपने तौर पर इस मामले पर नजर रखूंगा। उन्होने कहा कि जो अवाम ने फैसला किया वह मुझे कुबूल है। उन्होनेे कहा बीएसपी ने ईवीएम पर सवाल उठाया है। मैं कहना चाहता हूं कि इस सवाल पर कमीशन और दीगर को ध्यान देना चाहिए। सरकार को इस बारे मंेे सोचना चाहिए। उन्होने कांगे्रस के गठजोड़ के बारे में कहा कि यह आगे भी जारी रहेगा। मुझे खुशी है कि कांगे्रस हमारे साथ आई और दो नौजवान लीडर साथ चुनाव लड़े। उन्होने कहा चुनाव के नतीजे हैरान करने वाले हैं। हमारी मीटिंगों में भीड़ देखने को मिली लेकिन रिजल्ट कुछ और ही है। अखिलेश ने हार की जिम्मेदारी पर कहा कि पार्टी का कौमी सदर हूं और मैं हार का तजजिया करूंगा। अगर मेरी जिम्मेदारी है तो मैं इसे जरूर लंूगा। उन्होने कहा काम हमेशा बोलेगा और जब तक हम से अच्छा नहीं कर पाएगा तब तक काम बोलेगा। उन्होेने किसी सियासी बयान पर कहा सारी बातो के बाद यह तय होगी। उन्होने वोटिंग पर कहा वोट समझाने से नहीं वोट बहकाने से मिलते हैं। उन्होने कहा कि यूपी के अवाम को बहकाया गया है। अखिलेश अपनी प्रेस कांफ्रेंस मंे हंसते हुए नजर आए। उन्होने कहा मैं तो हंस भी रहा हूं बाकी जो पार्टियां हारती हैं वह हसंती भी नहीं।

HIndi Latest